कॉपीराइट कैसे होता है | How to Get Copyright in hindi

इस लेख में हम आपको जानकारी देंगे की कॉपीराइट क्या है और किन वस्तुओ का हम कॉपीराइट करवा सकते है Copyright Registration के लिए क्या जरूरी Documents होते है ? कॉपीराइट रजिस्ट्रेशन की फीस क्या है? और कॉपीराइट कैसे होता है? कॉपीराइट की सम्पूर्ण प्रक्रिया की जानकारी हम इस लेख में दे रहे है |

copyright kaise hota hai

Copyright का अर्थ होता है स्वाधिकार या हम कह सकते है रचना स्वामित्व सुरक्षित करना | Copyright कॉपी करने  अधिकार होता है जो केवल उसके Owner को दिया जाता है| बिना Owner की मर्ज़ी के किसी और को उसकी रचना की कॉपी नहीं कर सकता |

copyright एक Intellectual property की तरह होता है| यह रचियता की रचना और उसकी property को बिना उसकी permission के किसी और द्वारा use करने से protect करता है| Copyright आपकी मदद आपके काम में focus और relevancy लाने में मदद करता है और commrcial exploitation में भी आपकी मदद करता है |

अगर किसी के पास अपने original काम पर copyright है तो copyright द्वारा वह अपने काम को imitate, copy और reproduce होने होने से रोकता है | अगर कोई व्यक्ति बिना owner की permission के ऐसा करता है तो, उसे उसकी कीमत ज़ुर्माना देकर चुकानी होती है | अब तक तो आप समझ चुके होंगे की copyright क्या होता है और यह हमारे लिए कितना जरूरी होता है| लेकिन अब सवाल है की कॉपीराइट कैसे होता है | इसकी पुरी जानकारी हम आपको हमारे इस article में बताएँगे|

Copyright Registration के समय ध्यान रखने वाली बातें

Copyright registration हमारी रचना और काम को सुरक्षित रखने के लिए जरूरी होता है| इसके लिए सबसे पहले यह जानना जरूरी है की  आपका काम copyright कराने के लिए eligible भी है या नहीं| नीचे कुछ features किसी काम के दिए गए है जिससे हम जान सकते है की हमारे काम का  copyright हो सकता है या नहीं |

  1. यह एक idea का expression है ना की कोई सोच या योजना | उदाहरण के लिए आप एक कहानी को copyright करा सकते है जो आपने किसी भी topic पर लिखी है | लेकिन आप यह copyright नहीं करा सकते की आप कोई story लिखने की सोच रहे है |
  2. जो आप copyright करना चाहते है वह कोई word ना हो क्योंकि एक word कभी भी Copyright नहीं होता |
  3. आपका copyright work original होना चाहिए ना की किसी और के काम की कॉपी हो |

Copyright किस किसका हो सकता है

हर प्रकार का काम भी copyright नहीं हो सकता| यदि आपका काम निमन कामों मे से है और original है तो copyright हो सकता है|

  1. कलात्मक कार्य जैसे की कोई logo या चित्र |
  2. साहित्यिक कार्य जैसे की कोई किताब या computer program.
  3. नाटकीय कार्य जैसे की कोई नाटक |
  4. संगीतमय कार्य जैसे की आलेख संगीत |
  5. चल चित्र कला जैसे की video और फिल्म |
  6. Sound recording जैसे की कोई गाना |

Copyright Registration के लिए जरूरी Documents

बिना किसी रूकावट और परेशानी वाली प्रक्रिया के लिए, आपको निम्णलिखित documents और जानकारी की आवश्यकता होती है copyright registration के लिए :-

  1. No objection certificate (NOC) मतलब एक ऐसा certificate जिसमे प्रमाणिक हो की इस कार्य से किसी भी व्यक्ति को कोई आपत्ति नहीं है| इसकी जरूरत ज्यादा तब होती है जब applicant और author अलग अलग होते है |
  2. Original काम की 3 Copies.
  3. Power ऑफ़ attorney.
  4. Publisher से भी NOC (यदि publisher और applicant अलग- अलग होते है और काम published हो चुका है ) |
  5. यदि काम पर किसी person की photo है तो NOC उस person से भी लेनी होगी |
  6. TM-60 (Trademark Office से भी NOC लेनी होगी) यदि आप लेना चाहते है और यदि किसी सामान के प्रयोग में होने वाला है |
  7. Author का नाम, पता और राष्ट्रीयता |
  8. काम की पहली publication का साल और देश |
  9. यदि आपका काम किसी अन्य कार्य का adoption या translation है |
  10. काम के अनुसार Authorization.
  11. काम का Tittle
  12. काम की भाषा |

Copyright Registration की fee

Government fee अलग- अलग कार्य की अलग- अलग होती है लेकिन यह 500 रूपये से शुरू होती है | Professional fee भी काम के अनुसार अलग अलग होती है और यह 1500 रूपये से शुरू होती है |

कॉपीराइट रजिस्ट्रेशन कैसे होता है

Copyright Registration की पूरी प्रक्रिया में लगभग 8 -9 months लग जाते है| आपने किसी और दूसरे व्यक्ति द्वारा चुराने से बचने के लिए हमे अपने काम का copyright करना होता है| कॉपीराइट रजिस्ट्रेशन कैसे होता है यह हम आपको अब बताने जा रहे है| नीचे कुछ steps के जरिये हम आपको बतायेंगे |

  1. Fee के साथ Application भरे

    एक निर्धारित फॉर्म में Application भरे और fee भी उसके साथ दे और इसे registrar के पास भेज दे | इस Application में सभी जरूरी सूचना होनी चाहिये | एक काम के लिए केवल एक ही Application दे सकते है| अलग कार्य के लिए अलग Application दें होगी और अलग fee भी applicant को देनी होगी |

  2. Diary Number जारी होना

    Application मिलने और उसको analyzing करने के बाद registrar applicant को एक Diary नंबर जारी करता है |

  3. आपत्ति के लिए 30 दिन का समय

    Application मिलने, recording और analyzing करने के बाद registrar, Diary number जारी करता है और इसके बाद 30 दिन का समय दिया जाता है अगर किसी को किसी प्रकार की कोई आपत्ति है author के काम को लेकर तो वह बता सकता है |

  4. यदि कोई आपत्ति नहीं मिलती

    उपरोक्त 30 दिन में यदि कोई आपत्ति नहीं आती registrar के पास तो इसके बाद Scrutinizer application को check करता है ताकि किसी भी प्रकार का मतभेद न रहे| अगर उसको कोई भी मतभेद नहीं मिलता तो वह registation कर देता है | इस तरह Copyright registration की प्रक्रिया पुरी हो जाती है | इस प्रक्रिया की सारी जानकारी registrar को दी जाती है, वह copyright register में इसकी entry कर देता है |

  5. यदि कोई आपत्ति मिलती है

    यदि उपरोक्त 30 दिन में registrar के पास कोई आपत्ति आती है तो आपत्ति की सुनवाई के लिए दोनों parties को सूचना दी जाती है और उनका जवाब माँगा जाता है| यदि इस सुनवाई में applicant आपत्ति को खत्म कर देता है तो registration की प्रक्रिया आगे चलती है और उसका कार्य Copyright के लिए register हो जाता है |  और यदि सुनवाई के दौरान applicant कार्य पर लगी आपत्ति को खत्म नहीं  पाया तो इस case में application को reject कर दिया जाता है और Application Rejection letter, applicant को भेज दिया जाएगा| इस तरह से copyright registration process खत्म हो जाएगी |

Recommend: How to Copyright a Book in India

Recommend: How to Copyright a song in India

Recommend: How to Copyright a Website in India

Recommend: How to Copyright a logo in India

हम उम्मीद करते है की उपरोक्त दी गयी जानकारी से आप समझ चुके होंगे की कॉपीराइट कैसे होता है| Copyright से owner और business दोनों की goodwill का पता चलता है | Copyright करा के owner अपने original work को protect कर सकता है किसी भी द्वारा कॉपी होने से |