How to Register a Company in Hindi Language

Basically Hindi is the national language so today we explain ” How to Register a Company in Hindi. So its can be easily understanding for the all the peoples who’s want to start a new business in India and want to guide in Hindi Language about the how we can register a company in india.

इंडिया में कंपनी को रजिस्टर कैसे करते है ?

इंडिया में कंपनी को रजिस्टर करने के लिए सबसे पहले आपको कुछ बातो का ध्यान रखना पड़ेगा और इन बातो को कंपनी बनने से पूर्व पूरा करना होगा।

1. कंपनी में 2 डायरेक्टर की जरुरत होती है , ये 2 डायरेक्टर में से एक डायरेक्टर इंडिया का होना चाइये।
2. डायरेक्टर के साथ २ शेयरहोल्डर भी होने चाइये। ये दो ही डायरेक्टर शेयरहोल्डर भी हो सकते है।
3. दोनों डायरेक्टर के पास डीन नंबर और डिजिटल सिग्नेचर होने चाइये जिसकी बात आगे की गयी है।

स्टेप 1. सबसे पहले डीन नंबर के लिए अप्लाई करे जो की एक नंबर होता है जो मिनस्ट्री ऑफ़ कॉर्पोरेट अफेयर्स गवर्नमेंट ऑफ़ इंडिया के दवारा जारी किया जाता है और किसी भी डायरेक्टर को ये डीन नंबर की जरुरत पड़ती है। डीन नंबर के लिए हमे डायरेक्टर के कुछ डाक्यूमेंट्स जैसे पैन कार्ड नंबर और एक
एड्रेस प्रूफ चाइये होता है और इसके अलावा फोटोग्राफ्स चाइये होती है।

Tip : अगर आप अपनी कंपनी ऑनलाइन कम रेट और अच्छी सर्विस के साथ रजिस्टर कराना चाहते है तो निचे दिए फॉर्म को भरे और अपने ईमेल पे सारी जानकारी पाए

स्टेप 2. डीन नंबर के बाद हमे डिजिटल सिग्नेचर के लिये अप्लाई करना चाइये जो कि भारत सरकार से निर्धारित कुछ कंपनी जैसे एमुद्रा और सिफ़ी जारी करती है। डिजिटल सिग्नेचर के के लिए भी हमे डीन के डाक्यूमेंट्स की ही जरुरत पड़ती है.

स्टेप 3. अब हमे कंपनी के नाम के लिए अप्लाई करना चाइये। इसके लिए हम ऑनलाइन गवर्नमेंट की वेबसाइट पे जाके चेक कर सकते है कि जो नाम आप कंपनी के लिए अप्लाई करना चाहते है वो उपलब्ध है या नहीं है

Must Read : How to search and Choose Company name in India

स्टेप 4. नाम के अप्प्रोव होने के बाद हमे दो डाक्यूमेंट्स को निर्धारित करना होता है जिसे moa और aoa बोला जाता है। इसमें कंपनी के सभी नियमो और कानूनो को सम्मलित किया जाता है।

स्टेप 5. नाम और moa तथा aoa के बनने के पछतात हमे कुछ ऑनलाइन फॉर्म्स को जमा करना होता है जिसमे एक लीगल एक्सपर्ट की जरुरत पड़ती है जैसे चार्टर्ड अकाउंटेंट और वकील।

स्टेप 6. फॉर्म्स जमा कराने के बाद हमे गवर्नमेंट को ऑनलाइन पेमेंट करनी पड़ती है जिसके पछतात गवर्नमेंट उन सभी फॉर्म्स को आप्प्रोव करती है।

स्टेप 7. अंत में सब कुछ अप्प्रोव होने बाद भारत सरकार एक सर्टिफिकेट देती है जिसे सर्टिफिकेट ऑफ़ इनकारपोरेशन बोलते है। यह प्रमाण होता है आपकी कंपनी रजिस्टर हो गयी है।

स्टेप 8. इसके बाद हमे कंपनी के पैन कार्ड के लिए अप्लाई करना पड़ता है फिर हमे एक करंट बैंक खाता भी खुलवाना पड़ता है।

हमारी आशा है ये article आपको पसंद आया होगा , हमारी सलाह है की कंपनी रजिस्ट्रेशन के लिए किसी अच्छे चार्टर्ड अकाउंटेंट को संपर्क करे या आप एक वेबसाइट MyOnlineCA पे भी सफलता पूर्वक ऑनलाइन कम लागत में अपनी कंपनी को रजिस्टर करा सकते है.

आप अधिक जानकारी के लिए निचे दिए गए विडियो को भी देखे।